Thursday, July 31, 2008

श्रीअमरनाथ बोर्ड की भूमि हमारा स्वाभिमान:भारती

अन्न यहां का हमने खाया,

जन्म यहां पर हमने पाया,

वो है प्यारा देश हमारा,

इसकी रक्षा हम करेगे।

श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड की जमीन वापस लेना हमारा हक और स्वाभिमान है। जब यह पंक्तियां स्वामी दिनेश भारती जी ने सांबा में कही तो पूरा क्षेत्र देशभक्तिमय हो गया।

स्वामी दिनेश भारती जब सांबा में पहुंचे तो सैकड़ों की संख्या में उनके समर्थक व प्रदर्शनकारी गाड़ियों का काफिला लेकर उनकी अगुवाई कर रहे थे। सांबा के मेन चौक पर संबोधित करते हुए दिनेश भारती ने कहा कि आज वो समय आ गया है जब आप सभी लोग विभिन्न रंगों के कपड़े उतारकर बसंती चोला पहन लें। उन्होंने कहा कि लोकसभा के भीतर नेकां के प्रधान उमर अब्दुल्ला ने यह कह कर कि कश्मीर उनका है व वह दो इंच भी जगह नहीं देंगे, देश के 85 करोड़ हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है।

उन्होंने कहा कि श्रीनगर में हिंदुस्तान का झंडा जलाया गया, देश का अपमान किया गया लेकिन केन्द्र व राज्य की सरकार ने आंखें बंद कर सारा तमाशा देखती रहीं। उन्होंने कहा कि अगर उस समय पंडित जवाहर लाल नेहरू देश के प्रधानमंत्री न बनते तो पाकिस्तान ही नहीं बनता। नेहरू व जिन्ना ने पाकिस्तान बना दिया और कहा कि पाकिस्तान में मुसलमान रहेगे और हिंदुस्तान में हिंदु रहेगे। अगर उस समय भगत सिंह जैसे योद्धा देश के प्रधानमंत्री बनते तो इस तरह की समस्या उत्पन्न ही नहीं होता।

उन्होंने कहा कि हमकश्मीर किसी को भी नहीं देंगे क्योंकि यह भारत का मुकुट है और हमेशा ही रहेगा। जम्मू के जयचंद के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि यहां के मंत्री कश्मीरी हुक्मरानों के तलवे चाटते है और यही कारण है कि आज तक यह लोग जम्मू के हक को लेकर कभी कुछ नहीं बोले।

भारती ने लोगों से प्रतिज्ञा करवाई कि वह हिंदुत्व के लिए एकजुट होकर काम करे चाहे इसके लिए हमें पुलिस की लाठियां ही क्यों न खानी पड़े। पुलिस की लाठियां कम पड़ जाएंगी परन्तु हमारे सीने कम नहीं होंगे।

उन्होंने कहा कि कुलदीप वर्मा ने शहादत का जाम पिया लेकिन जिस तरह से पुलिस ने उसके शव व उसके परिवार के सदस्यों के साथ बर्ताव किया वह दिल दहलाने वाला था।

इस अवसर पर भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष चंद्र प्रकाश गंगा,अमरनाथ संघर्ष समिति के सांबा संयोजक नरेश अंबा ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर हजारों की संख्या में लोगों ने भाग लिया जिनमें महिलाएं भी शामिल थीं।
Home | Hindu Jagruti | Hindu Web | Ved puran | Go to top