Thursday, July 31, 2008

मातृशक्ति ने भीभरी हुंकार

बड़ी ब्राह्मणा, श्रीअमरनाथ श्राइन बोर्ड की भूमि वापस करने की मांग को लेकर जारी संघर्ष में बड़ी ब्राह्मणा कस्बे में मंगलवार को भी रोष रैली निकाली गई। श्रीअमरनाथ संघर्ष समिति के बैनर तले निकाली गई इस रैली में काफी संख्या में महिलाओं, पुरुषों व बच्चों ने भाग लिया।

मंगलवार को कस्बे व आसपास के क्षेत्रों में हुए प्रदर्शनों के दौरान महिलाओं व बच्चों की भागीदारी ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि जम्मू के लोग हिन्दुओं की भावनाओं से खिलवाड़ अब बर्दाश्त नहीं करने वाले। तेज गर्मी व भारी उमस के बावजूद बंद के छठे दिन जहां बड़ी ब्राह्मणा इलाके में महिलाओं की उपस्थिति काफी अधिक रही, वहीं अन्य स्थानों पर बच्चों ने प्रदर्शन कर इस बात के संकेत दिए कि वह भी संघर्ष को लेकर काफी गंभीर है।

कस्बे के रघुनाथ मंदिर के प्रांगण से शुरू हुई रोष रैली विभिन्न बाजारों से होती हुई नेशनल हाईवे स्थित सिडको चौक पहुंची और एक सभा में बदल गई। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने संघर्ष को जारी रखने का प्रण लिया।

रैली में शामिल प्रदर्शनकारी महिलाओं ने जम्मू में पुलिस द्वारा लोगों के घरों में घुस महिलाओं के साथ मार-पीट करने, लोगों की निजी संपत्ति की तोड़-फोड़ करने, व प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस छोड़ने की निंदा की।

महिलाओं ने एक स्वर में 'नारी को कमजोर न समझो, फूल नहीं हम चिंगारी है.' का नारा लगा कहा कि अब नारी शक्ति भी संघर्ष में शामिल हो चुकी है। जब तक उनके शरीर में खून का एक-एक कतरा बाकी है तब तक वह चैन से नहीं बैठेगी।

इस मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अशोक खजुरिया ने कहा कि जम्मू के लोग अब कश्मीरियों के जुल्मों का शिकार नहीं होंगे। यह जंग अब बाबा अमरनाथ बोर्ड को भूमि वापस दिलाने के लिए ही नहीं बल्कि आजादी के बाद से जम्मू के साथ हो रहे भेदभाव के विरुद्ध भी हो गई है। यह स्पष्ट हो गया है कि अब की बार लड़ाई आर-पार की होगी। जब तक संघर्ष समिति की मांगों को पूरा नहीं किया जाता तब तक यह आग यूं ही धधकती रहेगी।

उन्होंने कहा कि श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड को दी गई जमीन कश्मीरी हुक्मरानों के बाप-दादा की जागीर नहीं है। इसको जम्मू के डोगरों के पुर्वजों ने खरीदा था। यह जमीन हमारी थी, हमारी है और हमारी ही रहेगी। कश्मीर के मुसलमानों से हमने कभी जमीन का हिसाब नहीं मांगा, लेकिन मात्र 8 सौ कनाल भूमि के लिए कश्मीरी नेताओं ने हमारी आस्था के साथ खिलवाड़ किया।

उन्होंने कश्मीरी नेताओं को चेतावनी दी कि वो अपना बोरिया-बिस्तर समेट कर जम्मू से वापस चले जाएं नहीं तो उन्हें कान पकड़ कर यहां से भगा दिया जाएगा।

-------------------------

गांवों में निकली

मशाल रैली

बड़ी ब्राह्मणा : इलाके के आसपास स्थित गांवों में मंगलवार रात मशाल रैली निकाल जोरदार प्रदर्शन किया गया। कस्बे के गांव स्मैलपुर व पटली मोड़ में मंगलवार रात मशाल रैली निकाली गई। इस दौरान लोगों ने राज्यपाल एनएन वोहरा व उमर अब्दुल्ला के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

वहीं, राया मोड़ इलाके में प्रदर्शनकारियों ने कुछ पुलिस के वाहनों व ट्रकों को निशान बनाया और उस पर जमकर पथराव किया।
Home | Hindu Jagruti | Hindu Web | Ved puran | Go to top