Tuesday, August 12, 2008

हिंदू विश्राम अवस्था में....

कश्मीर में हिंदुओ का सफ़ाया हो गया पर हिंदू सोया रहा, बांग्ला देश में हिंदुओ का सफ़ाया हो रहा है पर हिंदू निंद्रा मगन है, पाकिस्तान में हिंदू तो दूर हिंदुओ के प्रतीक चिन्ह भी नही रहे पर हिंदू विश्राम अवस्था में है, मंदिरो में विस्फोट हों रहे है पर हमारी आँख है की खुलती नही, पाकिस्तानी लाल क़िले और संसद भवन तक आ गये पर हमारा ख़ून है की खौलता नही, अयोध्या में मस्जिद टूटती है तो कोहराम मच जाता है हर नेता वोट के लिए मुस्लिम परस्त बन जाता है लेकिन राम सेतु के लिए कोई नही चिल्लाता, गुजरात दंगो की बार बार CBI जाँच होती है पर गोधरा पीड़ितो की चीखे ना तो सरकार को सुनाई देती है ना CBI को और ना ही स्वयं हिंदुओ को, कश्मीर जल रहा है कुछ हिंदू अमरनाथ का सम्मान पाने के लिए तड़प रहे है पर बाक़ी देश के हिंदू सो रहे है, हिंदू देवी देवताओ की नग्न तस्वीरे बन रही है परंतु हिंदू करवट नही लेता, हमारे ग्रह मंत्री आंतकवादीओ को भाई बताते है, आडवाणी जिन्ना को धरम निरपेक्ष बताते है परंतु नरेंदर मोदी को "मौत का सौदागर" कहते है, अफ़ज़ल गुरु के लिए दया है पर विस्फोट में मरने वालो औरतो और बच्चो पे इन्हे दया नही आती ! कैसे देश वासी है हम ! क्या हमे भारतीय कहलाने का अधिकार है.............. नही।मासूम के लिए आवाज़ उठाने वाला कोई नही, हिंदुओ के लिए आवाज़ उठाने वाला कोई नही, राम सेतु सरकार के लिए कोई मुद्दा नही, गोधरा कांड की कोई CBI जाँच नही, अयोध्या में मंदिर बने ना बने पर किसी को कोई फ़र्क नही पड़ता, अमरनाथ संघर्ष में हिंदू मर रहे है पर सरकार को कोई चिंता नही !जानते हो क्यू......................................
1। क्यूंकि हम एक नही, एकत्र नही
2। एकत्र नही तो हम वोट बैंक नही
3। वोट बैंक नही तो कोई अस्तित्व नहीवोट बैंक की मानसिकता वाली राजनीति में, तीन तीन कट्टर मुस्लिम देशो के बीच में यदि अस्तित्व चाहते हो, सम्मान चाहते हो, हिंदुत्व चाहते हो, अपने बच्चो और औरतो को सुरक्षित देखन चाहते हो तो एकत्र हो जाओ ! एकत्र होने का समय आ गया है। हिंदू वही जो देश की रक्षा करे !हिंदू वही जो मंदिरो की रक्षा करे !हिंदू वही जो अपनी आन,मर्यादा की रक्षा करे !हिंदू वही जो हिंदुत्व की रक्षा करे !नही तो आप तमाशा देखने वाले दर्शक भर है जिन्हे आने वाला समय हिंदू द्रोही और कर्म विहीन पुरुष कहेगा !
Home | Hindu Jagruti | Hindu Web | Ved puran | Go to top