Thursday, September 11, 2008

43 हिन्दू परिवारों की घर वापसी

कासगंज: अपने मूल धर्म में आस्था व्यक्त करते हुए जनपद कांशीराम नगर के ग्राम मोहनी में बुधवार को 43 परिवारों के 167 व्यक्तियों ने ईसाई धर्म को त्यागकर पुन: हिन्दू धर्म में शामिल हो गए। हिन्दू धर्म में शामिल होने से पूर्व शुद्धि सभा दिल्ली शेखर आरिफ एवं धर्म जागरण सभा के प्रांतीय संगठन मंत्री राजेश्वर के नेतृत्व में आर्ष गुरुकुल के अधिष्ठाता देवराज शास्त्री ने उनका यज्ञोपवित कराया। धर्म परिवर्तन कर वापस लौटे लोगों ने गाँव में बने चर्च से ईसाई धर्म का प्रतीक क्रास हटाकर उसमें हिन्दू देवी देवताओं के चित्र लगा पूजा-अर्चना की। इस मौके पर विश्व हिन्दू परिषद के प्रांतीय अध्यक्ष प्रमोद जाजू ने कहा कि धर्म व्यक्ति की आस्था को प्रतिबंधित करता है। धर्म परिवर्तन के उपरान्त स्वघर वापस लौट लोगों ने ग्राम मोहनी में निजी सम्पत्ति पर बनाए गए चर्च पर लगे ईसाई धर्म के प्रतीक क्रास के चिह्न को हटाकर भवन को मंदिर के रूप में परिवर्तित किया और उसमें हिन्दू देवी-देवताओं के चित्र लगा पूजा-अर्चना की। हिन्दू धर्म में शामिल होने से पूर्व उनका यज्ञोपवीत संस्कार कर उनका शुद्धिकरण किया गया तथा सामूहिक भोज भी आयोजित किया गया।
Home | Hindu Jagruti | Hindu Web | Ved puran | Go to top